वामपंथी

आज नेट पे कुछ वामपंथी विचारधारा पे लेख पढ़ रहा था , जानने को मिला ये सब नास्तिक होते है और किसी धर्म को नही मानते , कट्टरवादी विचारधारा के खिलाफ इन्होने कई आन्दोलन किये और गणतंत्र का समाजवाद का नारा दिया. इनके प्रवक्ता मार्क्स ने कहा था ‘ धर्म लोगो के लिए अफीम के सामान हे ‘.

ये लोग अपने को कट्टरवादी विचारधारा के खिलाफ बोलते है , पर ये लोग खुद कट्टरवाद अपनाते है आप इनके सामने वामपंथ के खिलाफ कुछ नही कह सकते.

अब इनकी कुछ सच्चाई उजागर करते है , इनका भी एक धर्म है , और इनके प्रमुख धार्मिक गुरु या भगवान् कह लो वो है मार्क्स , एंगल्स , और लेनिन. इनके धार्मिक स्थल है मास्को और क्रेमलिन , और इनकी धार्मिक किताब है दस कैपिटल्स (स्वार्थ २०१३ की एक पोस्ट से). ये किताब को १०० साल से ज्यादा हो गए है पर अभी तक इसमें कोई परिवर्तन नही किया गया है , १०० साल में दुनिया कहा से कहा चली गयी पर ये अभी तक यही अटके हुए है.

नक्सलवाद जो आज एक बीमारी बन गया है हिंदुस्तान के लिए वो इन्ही की देन है , ये कहते है नक्सली लोग गरीब है ,अशिक्षित है , ये आदिवासी है , इनका बाहरी दुनिया से संपर्क कटा रहता है , इनका सोसन होता रहता है, इनकी बहुत सी समस्याएँ है इसलिए इन्होने हथियार उठा लिए है. सरकार ने इनका सही से विकास नही किया.

अगर ये गरीब है तो इनके पास विदेशी हथियार खरीदने के पैसे कहा से आते है , अगर ये अशिक्षित है और बाहरी दुनिया से अनजान है तो माओ वाद और मार्क्सवाद का ज्ञान कहा से आया इनके पास , इन्हें सपना आया था क्या. जो लोग इन्हें हथियार देते है मार्क्सवाद का ज्ञान देते है वे लोग इन्हें शिक्षा भी दे सकते थे और इनकी गरीबी भी दूर कर सकते थे. पर उन्हें अपना धर्म का विस्तार करना था और इन सीधे सादे आदिवासियों के अलावा उन्हें और कौन मिलेगा धर्म का विस्तार करने को.

हिन्दू धर्म को ये अपना सबसे बड़ा शत्रु मानते है , क्यूंकि इस धर्म के सामने इनकी विचारधारा फिक्की पड़ जाती है, ये धर्म स्वयं अपनी कमियों को पहचान कर उन्हें दूर करने की ताकत रखता है. कट्टरपंथ इसमें जन्मा था फिर शांत भी हुआ और तरक्की की रहो पर ये देश को लेके भी गया. इसी धर्म के एक वैज्ञानिक ने धरती पे बेठे बेठे चन्द्र ग्रहण और सूर्य ग्रहण का रहस्य बताया था , और इसी ने पृथ्वी और सूर्य के बिच की दूरी भी नापी थी. कुछ कमियाँ रही जो धीरे धीरे दूर होती जा रही है , और जो बाकि रह गयी है वे भी जल्दी ही दूर हो जाएँगी.

इस वामपंथी विचारधारा को हराना है तो समाज को शिक्षित करना होगा , गरीबी दूर करनी होगी, द्वेषभाव हटाने होंगे, जातिवाद ख़तम करना होगा , ये सब इनकी उपज है और ये कभी नही चाहेंगे की ये ख़तम हो , इसलिए हमे इन्हें ख़तम करना होगा वामपंथ अपने आप ख़तम हो जायेगा.

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s